आप-हम- पंकज व्यास

आप-हम इस समाज का हिस्सा है। आप-हम से ही समाज बना है। आप-हम ही समाज को बनाते-बिगाड़ते हैं। आप और हमारे जीवन में कई बार ऐसे मौके आते है, जब खुशियों के ढेर लग जाते हैं, तो कभी जीवन में गम व्याप्त हो जाता है। ग़मों में हमें खुशियाँ बटोरना होती है। आप और हमारी खुशियों व ग़मों के पल में आप-हम 'आप-हम' पर साथ रहेंगे।


आप-हम। ये आप-हम ही है, जो कभी प्यार-मोहब्बत के बातें करते हैं, तो दूसरे ही पल किसी का खून पीने को उतारू हो जाते हैं। आप-हम ही है जो कभी हरिश्चंद्र की औलाद बन जाते हैं, तो दूसरे ही पल झूट बोलने से भी गुरेज नहीं करते हैं। आप-हम ही हैं जो हिन्दी से प्रेम करते है व इंग्लिश भी सीखते हैं। हम भी अंग्रेजी सीखना पसंद करते हैं। वास्तव में हम भाषा की बात करना पसंद करते है। हम हिन्दी से प्रेम करते है, उसे सम्मान देना चाहते हैं, न कि ओरों की तरह हिन्दी-अंग्रेजी में युद्ध का माहौल पैदा करना चाहते है। हम-आप न केवल हिन्दी का विकास चाहते हैं, वरन हिन्दी वालों का भी विकास चाहते हैं। ... और यदि विकास के लिये, उन्नति के लिये हिन्दी वालें इंग्लिश सीखते हैं, तो इसमें हर्ज ही क्या है ? कोई हम हिन्दी भूल थोडे ही जायेंगे ।


आप-हम में से ही कोई नेता है, कोई डाक्टर है। आप-हम ही आम है, तो खास है। आप हम से ही सरकार बनी हैं। आप- हम ही धर्म फैलाते हैं, तो आप-हम ही धर्मं के नाम पर लड़ने-झगड़ने से पीछे नहीं रातें। आप-हम में से ही कोई आध्यात्मिक है, योगी है, भोगी है, प्रेमी है। आप-हम में ही कोई अच्छा है, तो कोई बुरा है। आप-हम से ही समाचार पैदा होते हैं... आप हम में से ही कोई कुछ है, कोई कुछ है, आप-हम से ही सबकुछ है, आदि-आदि।


अतः 'आप-हम' पर आप और हम की बात होगी। समाज के हर तबके कि बात होगी। साहित्य, शिक्षा, विभिन्न संसक्रतियों की बात होगी । आप हम बात करेंगे आम-खास की। हम बात करेंगे प्यार की, आप-हम के अनुभवों की। हम सीखेंग अनुभवों से। हम सकारात्मक पत्रकारिता को जोर देंगे॥ । कूल मिलकर यह कि हम आप-हम पर समग्रता से समग्र समाज के हर प्रकल्प कि बात यहाँ करेंगे ।

हाँ, मैं यहाँ एक बात स्पष्ट कर देना पसंद करूँगा, जो कि मैं अपनी हर गतिविधि व नई शुरूआत पर करता हूँ , कि हम मसीहा बनने के दावे नहीं करते, हम कोइ क्रांति कि बात नहीं करतें, हम यह नहीं कहतें की हम ये कर देंगें, वो करादेंगें, हाँ इतना अवश्य है , जब भी कोई मौका आयेगा हम पीछे नही हटेंगे और अच्छा से अच्छा करने कि कोशिश करेंगे...!


आपके सुझावों का इंतजार रहेंगा ....- --



Comments

Popular posts from this blog

अब नहीं होती बाल सभाएं, केवल एक दिन चाचा नेहरू आते हैं याद

निरंतर लिखो, आलोचकों की परवाह मत करो -बैरागी

व्यंग्य: छुटभैये नेताजी और नाम