मुक्तक - पंकज व्यास

दिलो में नफरते है, बहूत दूर होनी चाहिऐ ।
मंदिर-मस्जिद में दूरिया है बहूत, नष्ट होना चाहियें
धर्मं निरपेक्ष देश है मेरा ,
यहाँ हर धर्मं का सम्मान होना चाहियें ।

Comments

Popular posts from this blog

अब नहीं होती बाल सभाएं, केवल एक दिन चाचा नेहरू आते हैं याद

निरंतर लिखो, आलोचकों की परवाह मत करो -बैरागी

व्यंग्य: छुटभैये नेताजी और नाम