रोटी -शिव चौहान 'शिव'

रोटी
भूख की व्याकुलता को
शांत करती रोटी
पेट की आग को
बुझाती रोटी।
प्लेटफार्म पर या
गाडियों में बूट-पोलिश हो
होटलों में काम
या कूड़े के ढेर में
पन्नी बिनना हो
या किसी के आगे
दो पैसे के लिए
गिरगिराना हो
कभी भी उम्र का लिहाज नही करती रोटी.....

Comments

Popular posts from this blog

अब नहीं होती बाल सभाएं, केवल एक दिन चाचा नेहरू आते हैं याद

निरंतर लिखो, आलोचकों की परवाह मत करो -बैरागी

वंदे मातरम् के खिलाफ फतवा, मुसलमान खुद आए आएं, करे फतवे का विरोध, तो बने बात