बीएसपी पीठ में छूरा घोंपने वाली पाटी है: रामविलास पासवान

जवारा , (निप्र)। प्रदेश ·ी जनता ने दोनों पार्टियों ·ो देखा है। आज संसार वि·ास में आगे बढ़ रहा है व मध्यप्रदेश वहीं 50 वर्ष पहले वाली हालत में है। प्रदेश ·े निवासी परेशान है। ·िसान, दु·ानदार आज खुशहाल नहीं हैं, तो प्रदेश ·हां से प्रगति ·रेगा। इसी परिवर्त ·ी हमारी जन शक्ति पार्टी ·ी लड़ाई है, जो हम प्रदेशवासियों ·े लिए लड़ रहे हैं। उक्त बात लो·जनशक्ति पार्टी ·े राष्टï्रीय अध्यक्ष राम विलास पासवान ने पिपली बाजार में जिले में खड़े ·िए प्रत्याशियों ·े समर्थन में आयोजित सभा में ·ही। उन्होंने ·हा ·ि प्रदेश में खिचड़ी सर·ार बनने जा रही है। लो· जनशक्ति ने 150 उम्मीदवार खड़े ·िए हैं, जो सर·ार बनाने में अहम भूमि·ा निभाएंगे। इसलिए हमारे उम्मीदवारों ·ो जीताएं। श्री पासवान ने फूल सिंह बरैया ·ो पाटी्र ·ी ओर से मुख्यमंत्री घोषित ·रते हुए ·हा ·ि यह ·भी ·े मुख्यमंत्री बन गए होते, ले·िन बीएसपी ·ी महारानी मायावती ने इन·े पीठ में छूरा घोंपा व इन्हीं नहीं बनने दिया। श्री पासवान ने ·हा ·ि राजनीति में धर्म नहीं आना चाहिए। भाजपा ने हमेशा राम ·ा नाम ले·र भाई ·ो भाई से लड़ाया है, जिस·ा परिणाम आज जो गंदगी उठाने ·ा ·ाम ·रता है, वो गंदी बस्ती में रह रहा है। और जो सब·ा पेट भरता है वो भूख रह रहा है। हमारी पार्टी इन·े आंसू पोंछने चली है, ता·ि मजदूर ·ो ·म पैसे लेने वालों पर रो· लगे। हम घर में दिया प्र·ाश ·े लिए लगाते हैं, जलाने ·े लिए नहीं। श्री पासवान ने ·हा ·ि साधु ·े नाम पर देशद्रोह ·ा ·ाम ·रने वालों ·ो देशद्रोह ·ी सजा मिलनी चाहिए, ता·ि धर्म से राजनीति दूर रहे। आज बुराईयों से लडऩे ·ी आवश्य·ता है। जावरा एतिहासि· जगह है, ले·िन यहां तरक्की ·ा ·ोई नामोनिशान नहीं है। सभा ·ो फूल सिंह बरैया, आलोट विधानसभा प्रत्याशी रमेश रारोतिया, चांडालिया ने भी संबोधित ·िया। श्री पासवान हेली·ॉप्टर से दोपहर दो बजे जावरा आए व 40 मिनट बाद आगे ·ी सभा ·े लिए चले गए। जावरा विधानसभा प्रत्याशी मु·ेश चंडालिया ने आभार व्यक्त ·िया।

Comments

बीएसपी पीठ में छूरा घोंपने वाली पाटी है: रामविलास पासवान


जनाब तो सीधे देश के सिने में छुरा घोंपने की तैयारी में थे | तब ही तो बांग्लादेशियों के लिए नागरिकता की मांग कर रहे थे |

Popular posts from this blog

अब नहीं होती बाल सभाएं, केवल एक दिन चाचा नेहरू आते हैं याद

निरंतर लिखो, आलोचकों की परवाह मत करो -बैरागी

व्यंग्य: छुटभैये नेताजी और नाम